नई दिल्ली:प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 5,000 करोड़ रुपये की कथित बैंक धोखाधड़ी मामले में मनी लांड्रिंग जांच में एक कारोबारी गगन धवन को गिरफ्तार किया है। यह मामला गुजरात की एक फार्मा कंपनी तथा कुछ अन्य हवाला सौदों से संबंधित है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने आज सुबह गगन धवन को राष्ट्रीय राजधानी से मनी लांड्रिंग रोधक कानून (पीएमएलए) की धाराओं में गिरफ्तार किया। सूत्रों ने कहा कि धवन को आगे की हिरासत के लिए अदालत में पेश किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें:

नेल्लूर मेयर और दो अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज, यह है वजह...

कर्नाटक में भाजपा के पूर्व उपमुख्यमंत्री धोखाधड़ी के मामले में फंसे, ACB ने शुरू की कार्रवाई

...जब ठगे गए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, वजन घटाने के नाम पर धोखाधड़ी

सूत्रों ने बताया कि वडोदरा की कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक से संबंधित ऋण धोखाधड़ी तथा इसी तरह के कुछ अन्य गैरकानूनी लेनदेन की वजह से धवन पर एजेंसी की निगाह थी। आपराधिक शिकायत के आधार पर प्रवर्तन निदेशालय धवन द्वारा आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को रिश्वत देने के कथित आरोपों की जांच कर रहा था। एजेंसी ने अगस्त में दिल्ली में धवन और एक पूर्व कांग्रेस विधायक के परिसरों पर छापेमारीह की थी।

सीबीआई ने हाल में स्टर्लिंग बायोटेक और उसके निदेशकों चेतन जयंतीलाल संदेसरा, दीप्ति चेतन संदेसरा, राजभूषण ओमप्रकाश दीक्षित, नितिन जयंतीलाल संदेसरा और विलास जोशी, चार्टर्ड अकाउंटेंट हेमंत हाथी, आंध्रा बैंक के पूर्व निदेशक अनूप गर्ग और कुछ अज्ञात लोगों के खिलाफ कथित बैंक धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।