बेंगलुरु : माइक्रोसॉफ्ट एक्सेलेटर और एक्सेंचर वेंचर्स ने शुक्रवार को एक नए इकोसिस्टम भागीदारी की घोषणा की, जिसके तहत भारत में स्टार्ट-अप इकोसिस्टम (पारिस्थितिकी तंत्र) को मजबूती प्रदान की जाएगी।

ये दोनों कंपनियां मिलकर कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई), इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), ऑगमेंटेड/वर्चुअल रियलिटी, ब्लॉकचेन, फिनटेक, बिग डेटा, सुरक्षा और ग्राहक अनुभव समाधान के क्षेत्र में विशेषज्ञता रखनेवाली विकास-स्तरीय बी2बी (बिजनेस टू बिजनेस) स्टार्ट-अप को मदद मुहैया कराएंगी।

माइक्रोसॉफ्ट एक्सेलेटर एक वैश्विक कार्यक्रम है, जिसे स्टार्ट-अप्स को सशक्तिकरण प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है, जबकि एक्सेंचर वेंचर्स विकास-स्तरीय कंपनियों के साथ साझेदारी करती है, जो नवीन उद्यम प्रौद्योगिकी बनाते हैं।


माइक्रोसॉफ्ट एक्सेलेटर के प्रबंध निदेशक बाला गिरीशबाला ने बताया, "एक्सेंचर के साथ साझेदारी बड़े कॉरपोरेट्स के साथ स्टार्ट-अप को जोड़ने तथा सफल व्यवसाय करने में उनकी मदद के लिए हमारी प्रतिबद्धता का प्रतीक है।" इस भागीदारी की घोषणा यहां माइक्रोसॉफ्ट एक्सेलेटर के 'थिंकनेक्स्ट 2018' आयोजन में की गई। इस आयोजन में 400 से अधिक व्यापार और उद्योग नेतृत्व, स्टार्ट-अप्स, वेंचर कैपटलिस्ट्स और उद्यमी शामिल हुए।


एक्सेंचर वेंचर्स, भारत के प्रंबध निदेशक अवनीश सभरवाल ने कहा, "यह इकोसिस्टम भागीदारी एक उदाहरण है कि हम नवाचार पारिस्थितिकी तंत्र को कैसे व्यवस्थित करते हैं और स्टार्ट-अप के बढ़ने के लिए किस तरह से अवसर पैदा करते हैं।"