नवादा: बिहार के नवादा जिले के गोविंदपुर थाना क्षेत्र के एक आश्रम में तीन साध्वियों के साथ दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया है। दुष्कर्म का आरोप आश्रम के ही सेवादारों पर लगाया गया है। मामले के प्रकाश में आने के बाद सभी आरोपी फरार बताए जा रहे हैं।

पुलिस के अनुसार, बहियारा मोड़ के समीप स्थित संत कुटीर आश्रम की तीन साध्वियों ने गोविंदपुर थाना में सेवादारों पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए एक प्राथमिकी दर्ज कराई है। दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि 12 दिसंबर 2017 की रात 10 बजे जब वे खाना पका रही थीं, तभी कई सेवादार हथियारों के बल पर रसोईघर में प्रवेश कर गए और

उन सभी को जबरदस्ती एक कमरे में ले गए और उनके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया गया।

इस घटना के बाद घबराईं और डरी पीड़िताएं अपने-अपने घर वापस लौट गईं, लेकिन बाद में अन्य लोगों द्वारा हिम्मत दिए जाने के बाद चार जनवरी को गोविंदपुर थाना में इस मामले की एक प्राथमिकी दर्ज कराई।

गोविंदपुर के थाना प्रभारी रवि पासवान ने शुक्रवार को बताया कि दर्ज प्राथमिकी में पांच लोगों कल्पनाथ चौधरी, गिरिजा शंकर चैधरी, तपस्यानंद उर्फ श्याम चौधरी, अजीत चौधरी (सभी उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के निवासी) और दिलचंद पटेल (महुआडीह, उत्तर प्रदेश) को नामजद किया गया है, जबकि पांच अन्य अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है।

उन्होंने बताया कि पीड़िताओं में से एक बिहार की, जबकि दो अन्य राज्यों की रहने वाली हैं। पासवान ने बताया कि गुरुवार को पीड़ित साध्वियों का बयान अदालत में दर्ज करवाया गया तथा आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सभी आरोपी अन्य राज्य के रहने वाले हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए एक टीम का गठन किया गया है।