रांची : चारा घोटाले के एक मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद जेल की सजा काट रहे राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव एक बार फिर चर्चाओं में हैं। जेल के अंदर होने के लालू और उनकी पार्टी पर कई तरह के आरोप लग रहे हैं। चर्चा है कि जेल में लालू प्रसाद के दो निजी सहायकों को उनकी सेवा करने के लिये भेजा गया है।

इन सहायकों को लालू यादव को दोषी ठहराए जाने के बाद जेल में भेजे जाने से कुछ घंटे पहले वहां भेजा गया था। इसको लेकर जदयू ने आलोचना की है। राजद ने हालांकि लालू यादव का बचाव किया है। उसने कहा कि लक्ष्मण महतो और मदन यादव की वहां संयोगवश मौजूदगी थी।

महतो और यादव पर छोटे अपराध का आरोप है। महतो और यादव के बारे में दावा किया गया है कि वे हेल्पर और रसोइये के रुप में लालू की सेवा कर रहे थे। बिरसा मुंडा जेल के अधीक्षक से फिलहाल टिप्पणी के लिये संपर्क नहीं हो सका है। अन्य अधिकारी चुप्पी साधे हुए हैं। लालू चारा घोटाला के एक मामले में गत 23 दिसंबर को दोषी ठहराये जाने के बाद से बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं।

यह भी पढ़ें :

बिहार‍वासियों के नाम लालू ने जेल से लिखा खत, आप भी पढ़िए

लालू ने कहा जेल में बहुत ठंड है, जज साहब बोले-तबला बजाइए

चारा घोटाला : लालू यादव को साढ़े तीन साल की सजा, 5 लाख का जुर्माना