नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22 जनवरी को स्विटरजरलैंड की दो दिवसीय यात्रा पर जायेंगे और दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्लूईएफ) के पूर्ण सत्र में भाषण देंगे। पिछले दो दशक में किसी भी प्रधानमंत्री की डब्लूईएफ में पहली भागीदारी होगी।

वर्ष 1997 में तत्कालीन प्रधानमंत्री एच डी देवेगौडा ने दावोस सम्मेलन में हिस्सा लिया था। प्रधानमंत्री की यात्रा की आज घोषणा करते हुए विदेश मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि मोदी 22 जनवरी को स्विस कांफेडरेशन के अध्यक्ष एलैन बर्सेट से द्विपक्षीय वार्ता भी करेंगे। मंत्रालय ने कहा, प्रधानमंत्री 23 जनवरी, 2018 को स्विटरजरलैंड के दावोस क्लोस्टर्स में विश्व आर्थिक मंच के पूर्ण सत्र में अहम भाषण देंगे।

इस सम्मेलन में वित्तमंत्री अरण जेटली, रेलमंत्री पीयूष गोयल, वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु, पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान, विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री जितेंद्र सिंह भी भाग लेंगे। सम्मेलन में भारत की उपस्थिति इस बार सबसे बडी रहने वाली है. इन छह मंत्रियों के अलावा दो मुख्यमंत्री, कई शीर्ष सरकारी अधिकारी, 100 से अधिक सीईओ भी जा रहे हैं।