दिल्ली : एक सांसद के बेटे ने पूरे सीजन में एक मैच भी खेले बिना ही दिल्ली टी-20 टीम में जगह हासिल की है। बिहार के मादेपुरा से सांसद राजेश राजन (पप्पू यादव) के बेटे सार्थक रमजान ने पिछले वर्ष एक भी मैच खेले बगैर ही दिल्ली टी-20 टीम में जगह हासिल की थी।

अतुल वासन, हरि गिडवानी और जूनियर राबिन सिंह की सेलेक्ट कमेटी ने गत वर्ष से लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहे अन्य खिलाड़ियों को नजरअंदाज करते हुए सार्थक को टी-20 टीम में चुना। दूसरी ओर अंडर 23 में शीर्ष स्कोरर रहे हितेन दलाल को रिजर्व खिलाड़ियों में ही जगह मिल पाई है।

इससे पहले भी सार्थक के सेलेक्शन का मुद्दा विवादास्पद बना था। सार्थक ने केवल तीन मैचों में मिलाकर केवल 10 रन बनाए थे। मुस्ताक अली ट्रॉफी के वक्त भी ऐसा ही हुआ था। बाद में रंजी ट्रॉफी संभावितों में जगह मिलने के बावजूद सार्थक रमजानखुद इस रंजी ट्रॉफी से हट गये थे। क्रिकेट के प्रति रुचि कम होने के नाम पर बॉडी बिल्डिंग की तरफ ध्यान केंद्रित किया था।

गौरतलब है कि पप्‍पू यादव बिहार के मधेपुरा से सांसद हैं। उनका आधिकारिक नाम राजेश रंजन है। पप्‍पू पूर्व में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) से जुड़े रहे, लेकिन उन्होंने अब अपनी पार्टी जन अधिकार पार्टी बना ली है। मजेदार बात यह है कि पप्‍पू की पत्नी रंजीत रंजन सुपौल से कांग्रेस सांसद हैं।

अतुल वासन, हरि गिडवानी और रॉबिन सिंह जूनियर की तीन सदस्यीय चयन समिति को अच्छा प्रदर्शन करने वाले कुछ खिलाड़ियों की अनदेखी करने और प्रभावशाली व्यक्ति के बेटे को चुनने के लिए चौतरफा आलोचना का सामना करना पड़ रहा है जिसने सत्र की शुरुआत में खेल को लगभग छोड़ ही दिया था।