राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा है कि प्रदेश की जनता की भावनाओं का सम्मान करते हुए राज्य में फिल्म पद्मावत का प्रदर्शन नहीं किया जाएगा। प्रदेश के किसी भी सिनेमाघर में यह फिल्म नहीं दिखाई जाएगी।

एक सरकारी विज्ञप्ति में राजे ने कहा है कि रानी पद्मिनी का बलिदान प्रदेश के मान-सम्मान और गौरव से जुड़ा हुआ है।  इसलिए रानी पद्मिनी हमारे लिए सिर्फ इतिहास का एक अध्याय भर नहीं, बल्कि हमारा स्वाभिमान हैं।

उनकी मर्यादा को हम किसी भी सूरत में ठेस नहीं पहुंचने देंगे। उन्होंने इस सम्बन्ध में गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया को निर्देश भी दिए। गैरतलब है कि शूटिंग के दौर से ही विवादों में रही है। बाद में राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने उदयपुर में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पहले ही केंद्र सरकार को विवादित फिल्म पद्मावती को राजस्थान में रिलीज नहीं करने के लिए पत्र लिख चुकी हैं।

इधर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने जयपुर में संवाददाताओं से कहा कि यदि फिल्म में विवादित अंश होंगे तो उसका विरोध जारी रहेगा और इसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने कहा कि अभी तक फिल्म किसी ने देखी नहीं है। फिल्म से यदि आपत्तिजनक बातें निकाल दी गई हैं तो विरोध क्यों, यदि राजस्थान के इतिहास के साथ छेड़छाड़ के अंश हैं तो फिल्म का विरोध जारी रहेगा।