केपटाउन : भारतीय तेज गेंदबाज न्यूलैंड्स क्रिकेट मैदान पर खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के पहले दिन शुक्रवार को दूसरे सत्र में भी दक्षिण अफ्रीका पर हावी रहे। पहले सत्र में तीन विकेट गंवाने वाली अफ्रीकी टीम ने दूसरे सत्र में चार विकेट खोए हैं और चायकाल तक सात विकेट के नुकसान पर 230 रन बनाए हैं।

दूसरे सत्र का खेल खत्म होने तक केशव महाराज (23) और कागिसो रबादा (1) रन बनाए थे। पहले सत्र में भुवनेश्वर कुमार ने डीन एल्गर, एडिन मार्कराम (5) और हाशिम अमला (3) को 12 के कुल स्कोर तक पवेलियन भेज दिया था। दूसरे सत्र में भुवनेश्वर को एक विकेट मिला। वहीं जसप्रीत बुमराह, हार्दिक पांड्या और मोहम्मद शमी ने भी अपना खाता खोला।

पहले सत्र में अर्धशतक लगाने वाले अब्राहम डिविलियर्स (65) दूसरे सत्र में ज्यादा देर टिक नहीं पाए और बुमराह ने उनकी गिल्लियां बिखेर कर टेस्ट में अपना पहला विकेट हासिल किया। डिविलियर्स ने 84 गेंदें खेलीं और 11 चौके लगाए।

ये भी पढ़ें :

भुवी के सामने दीवार बने डिविलियर्स, दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 107/3

भुवनेश्वर ने बिगाड़ी दक्षिण अफ्रीका की शुरुआत

अफ्रीकी कप्तान फाफ डु प्लेसिस (62) ने इस सत्र में अपना अर्धशतक पूरा किया। वह अच्छी लय में थे, लेकिन पांड्या की एक गेंद उनके बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों में चली गई। साहा ने गेंद को पकड़ने में कोई गलती नहीं की। प्लेसिस ने अपनी पारी में 104 गेंदों का सामना किया और 12 चौके लगाए।

विकेटकीपर-बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक तेजी से रन बनाने के मूड में थे। उन्होंने आते ही कुछ अच्छे शॉट्स लगाए। डी कॉक ने 40 गेंदों में सात चौकों की मदद से 43 रनों की पारी खेली। उनकी पारी का अंत भुवनेश्वर ने साहा के हाथों कैच कराया।

ये भी पढ़ें :

53वें दिन की प्रजा संकल्प यात्रा में जगन की दो बड़ी घोषणाएं, पढ़ें पूरी खबर

कृषि बैंक के प्रमुख वेंकटेश्वर राव के खिलाफ मां-बाप पर हमला करने का मामला दर्ज

वेर्नोन फिलेंडर भी अच्छी लय में दिख रहे थे, लेकिन मोहम्मद शमी की एक शानदार गेंद उनकी गिल्लियों को छूकर चली गई। उन्होंने 35 गेंदों में चार चौकों की मदद से 23 रनों की पारी खेली।

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान डु प्लेसिस ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया, लेकिन भुवनेश्वर ने पहले ओवर की तीसरी गेंद पर डीन एल्गर को बिना खाता खोले विकेट के पीछे रिद्धिमान साहा के हाथों कैच करा दिया। इस समय टीम का भी खाता नहीं खुला था।

टीम का स्कोर सात रन ही पहुंचा था कि एडिन मार्कराम पांच के निजी स्कोर पर भुवनेश्वर की गेंद पर पगबाधा करार दे दिए गए। मेजबान टीम के मुख्य बल्लेबाजों में से एक हाशिम अमला (3) भी भुवनेश्वर की स्विंग में फंस गए और साहा ने उन्हें लपकने में कोई गलती नहीं की। 12 रनों पर ही मेजबान टीम तीन अहम विकेट खो चुकी थी।

इसके बाद हालांकि डिविलियर्स और प्लेसिस ने टीम को पहले सत्र का खेल खत्म होने तक कोई और झटका नहीं लगने दिया। दोनों के बीच तीसरे विकेट के लिए 95 रनों की साझेदारी हो चुकी है।

डिविलियर्स ने अभी तक 65 गेंदों की पारी में 11 चौके लगाए हैं। वहीं प्लेसिस ने अभी तक 67 गेंदों का सामना किया है और सात चौके जड़े हैं। भारत के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह इस मैच के माध्यम से टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण कर रहे हैं।