मुंबई: पिछले हफ्ते मुंबई के कमला मिल्स इलाके में आग हादसे में दर्जनभर से अधिक जानें गई थीं। इस दौरान पुलिस की मुस्तैदी देखने को मिली। खासकर मुंबई पुलिस के कॉन्स्टेबल सुदर्शन शिवाजी शिंदे का फोटो वायरल है। जिसमें वे कंधे पर घायल लड़की को ले जाते नजर आ रहे हैं।

हालांकि जो जानें गईं उसके लिए सुदर्शन को बेहद मलाल है। सुदर्शन ने तत्परता दिखाते हुए करीब 200 लोगों को चिल्लाते हुए बाहर निकलने का इशारा किया। इनमें से कई ऐसे थे जो आग में झुलस गए थे और बाहर निकलने में असमर्थ थे। सुदर्शन ने अपनी जान की परवाह किए बगैर लपटों में घुसकर घायलों को बाहर निकाला। जो खुद चलकर नहीं निकल सकते थे उन्हें कंधे पर लादकर सुदर्शन ने बाहर निकाला।

यह भी पढ़ें:

मुंबई में टेरेस पब में लगी भीषण आग, 14 लोगों की मौत, तस्वीरों में देखें कितना भयानक था हादसा

राहत और बचाव के दौरान ही एक फोटोग्राफर ने सुदर्शन की तस्वीर कैमरे में कैद कर ली। जो सोशल मीडिया पर वायरल है। आम लोग सुदर्शन शिवाजी की हिम्मत की दाद देते हुए भूरि भूरि प्रशंसा कर रहे हैं।

मुंबई पुलिस आयुक्त दत्तात्रेय पदललगीकर ने भी सुदर्शन की बहादुरी पर शाबाशी दी। साथ ही इसके लिए उन्हें उचित ईनाम सरकार से दिलवाने का भरोसा दिया। मुंबई के वर्ली पुलिस स्टेशन में सुदर्शन को सम्मानित भी किया गया।

यह भी पढ़ें:

CM रहते नीतीश की घटी संपत्ति, बैंक बैलेंस जानकर हैरान रह जाएंगे

कांस्‍टेबल सुदर्शन अपनी प्रशंसा से खुश तो हैं, लेकिन उनके चेहरे पर इस बात की मायूसी है कि वे बाकी जिंदगियां बचा नहीं सके। घटना के बारे में उन्होंने बताया कि रात करीब साढ़े बारह बजे उन्हें वायरलेस पर आग लगने की सूचना मिली। जिसके तत्काल बाद साथी पुलिसकर्मियों के साथ वे मौके पर पहुंचे। उन्होंने पाया कि लोग मदद के लिए चिल्ला रहे हैं और जान बचाने के लिए अफरा तफरी मची हुई है। धुएं की वजह से बहुत कुछ साफ दिखाई नहीं दे रहा था।

सुदर्शन ने अपनी जान की परवाह किए बगैर फायरकर्मियों से गुजारिश की कि वे अपनी क्रेन के जरिए उन्हें छत तक पहुंचा दें। पब में दाखिल होने के बाद सुदर्शन ने तत्परता दिखाते हुए एक एक कर घायलों को निकालना शुरू कर दिया। सुदर्शन की बहादुरी ने लोगों का भरोसा पुलिस पर और पुख्ता किया है।