हैदराबाद : उस्मानिया विश्वविद्यालय में सोमवार को फिर से तनाव की स्थिति उत्पन्न हुई। विश्वविद्यालय के आर्ट्स कॉलेज के पास छात्र आज सुबह आंदोलन पर उतर आये।

बता दें कि रविवार को मुरली नामक एक पीजी छात्र ने आत्महत्या कर ली थी। उस घटना के विरोध में आज छात्रआंदोलन पर आये। छात्रों ने मृतक छात्र के परिजनों को मुहावजा राशि घोषित करने की मांग को लेकर नारे लगाये।

उस्मानिया विश्वविद्यालय में पीजी छात्र ने कर ली आत्महत्या, मुख्यमंत्री केसीआर के विरोध में नारेबाजी

दूसरी ओर आंदोलन पर उतर आये छात्रों ने रैली निकालने का प्रयास किया। पुलिस ने रैली को रोका। इस दौरान पुलिस छात्रों की बीच धक्कामुक्की हुई। इसी क्रम में कुछ छात्रों ने पुलिस पर पथरबाजी की। पुलिस ने पथरबाजी कर रहे छात्रों को तीतर-भीतर करने के लिए लाठीचार्ज किया। लाठीचार्ज में अनेक छात्र घायल हो गये।

मुरली का आत्महत्या से पहले लिखा हुआ पत्र
मुरली का आत्महत्या से पहले लिखा हुआ पत्र

डीसीपी ने बताया कि पुलिस पर लाठीचार्ज करने वाले 34 छात्रों को हिरासत में लिया है। उन्होंने बताया कि नेताओं के कॉलेज में आने के कारण ही तनाव उत्पन्न हुआ है।

दूसरी ओर आत्महत्या कर चुके मुरली ने अपनी सुसाइड नोट में लिखा पढ़ाई के दबाव के कारण आत्महत्या कर रहा है। मगर विश्वविद्याल के छात्रों का आरोप है कि नौकरियों के लिए नोटीफिकेशन न आने के कारण ही मुरली ने आत्महत्या कर चुका है।