अमरावती: आंध्र प्रदेश सरकार नंदी अवार्ड के घोषणा को लेकर उठे विवाद पर नारा लोकेश ने जिस तरह से प्रतिक्रिया व्यक्त की है अब उसे लेकर लोग उनका खूब मजाक उड़ा रहे हैं। नारा लोकेश ने कहा कि जिनके पास राज्य में आधार कार्ड और वोटर कार्ड नहीं है वे हैदराबाद में बैठकर सरकार की आलोचना कर रहे हैं।

राज्य के मंत्री से लोग ऐसी प्रतिक्रिया की आशा नहीं करते हैं। आलोचना के लिए आधार की कतई दरकार नहीं होती है, ये सामान्य ज्ञान है। वहीं वोटर आई डी कार्ड नहीं होने का मतलब ये नहीं कि कोई शख्स उक्त राज्य के मुखिया के बारे में टिप्पणी नहीं कर सकता है।

नारा लोकेश ने कहा कि हैदराबाद से हवाई जहाज में आने-जाने वाले और जिनके पास आंध्र प्रदेश की नागरिरकता नहीं है वे इस मामले को ज्यादा तूल दे रहे हैं। आंध्र प्रदेश सरकार ने तीन साल के बाद नंदी अवार्ड की घोषणा की है और इसे विवादित बताया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नंदी अवार्ड चयन में पूरी तरह पारदर्शिता बरती गयी है।

उल्लेखनीय है कि सरकार के अनकूल काम करने वाले और एक सामाजिक वर्ग के लोगों को नंदी अवार्ड के लिए चयन किये जाने के बाद काफी विवाद हुआ था और कई फिल्म अभिनेता,निदेशक और फिल्म जगत से जुड़े लोगों ने जमकर आलोचना की थी। इसी क्रम में नारा लोकेश का बयान आग में घी डालने का काम कर रहा है।

वास्तव में नंदी अवार्ड और आधार कार्ड से कोई संबंध नहीं है। आधार कार्ड किसी एक क्षेत्र या किसी एक राज्य से संबंधित नहीं है। यह पूरे देश से संबंधित है। इसी क्रम में नारा लोकेश ने फिर एक बार ऐसा बयान देकर यह साबित कर दिया है कि वे आंध्र प्रदेश की सियासत में बार बार हंसी के पात्र बन रहे हैं।