अमरावती: आंध्र प्रदेश विधानसभा के मुख्य सचेतक के रुप में विधायक पल्ले रघुनाथ रेड्डी को नियुक्त किया गया है। गौरतलब बात यह है कि विधानसभा में पहले से ही चार सचेतक नियुक्त है। सरकार ने दो और लोगों को नियुक्त किया है। इसी तरह विधानसभा सचेतक के रुप में गणबाबू,सर्वेश्वर राव,विधानपरिषद के लिए मुख्य सचेतक के रुप में पयय्यावुला केशव, सचेतक के रूप में बी. वेंकन्ना,डोक्का माणिक्य वरप्रसाद,रामसुब्बा रेड्डी,और शरीफ की नियुक्ति किया गया है।

इसे भी पढ़ें:

अब प्रदेश में होगी किसानों पर केंद्रित राजनीति : सीएम योगी

आंध्र प्रदेश : अरकू घाटी में हॉट एयर बैलून महोत्सव का आयोजन

आंध्र प्रदेश में सत्ता पक्ष ही निभाएगी विपक्ष की भूमिका

नियक्ति को लेकर बुधवार को सरकारी आदेश जारी किया गया। पल्ले रघुनाथ रेड्डी वर्ष 1999 में पहली बार विधायक चुने गये। 2004 में उन्हे हार का सामना करना पड़ा। बाद में 2007 में विधानपरिषद के सदस्य चुने गये। वर्ष 2009 और 2014 में वे फिर एक बार विधायक निर्वाचित हुए। 2014 में सूचना,अल्प संख्यक, एवं प्रौधोगिकी मंत्री रहे। इस वर्ष मंत्री मंडल विस्तार के दौरान उन्हे अपने पद से हाथ धोना पडा। उन्हे अब मुख्य सचेतक के रूप में नियुक्त किया गया है।

पय्यावुला केशव पहली बार 1994 में विधायक निर्वाचित हुए। वर्ष 1999 में उन्हे हार का सामना करना पड़ा। वर्ष 2004 और 2009 में लगातार विधायक निर्वाचित हुए, लेकिन 2014 में उन्हे हार का सामना करना पड़ा। 2015 हुए स्थानीय निकाय चुनाव में सर्व सम्मति से चुने गये। 2014 में टीडीपी के सत्ता में आने और उनके चुनाव हार जाने से उन्हे मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिल पायी।

विधान परिषद के लिए चुने जाने के बाद मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान उन्होंने इस बात की आस लगायी कि शायद उन्हे मंत्रिमंडल में जगह मिल जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आखिरकार उन्हे विधान परिषद के मुख्य सचेतक के रुप में नियुक्त किया गया।