वाशिंगटन : अंतरराष्ट्रीय अदालत की एक सीट के लिए भारत और ब्रिटेन के बीच मुकाबले में गतिरोध पैदा हो गया है और कांग्रेस नेता शशि थरुर ने आरोप लगाया कि ब्रिटेन संयुक्त राष्ट्र महासभा के बहुमत की इच्छा को बाधित करने की कोशिश कर रहा है।

भारत के दलवीर भंडारी और ब्रिटेन के क्रिस्टोफर ग्रीनवुड हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत में फिर से चुने जाने के लिए एक-दूसरे से मुकाबला कर रहे हैं। आईसीजे की 15 सदस्यीय पीठ के एक तिहाई सदस्य हर तीन साल में नौ वर्ष के लिए चुने जाते हैं। इसके लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद में अलग-अलग, लेकिन एक ही समय चुनाव कराए जाते हैं।

आईसीजे में चुनाव के लिए मैदान में उतरे कुल छह में से चार उम्मीदवारों को संयुक्त राष्ट्र कानूनों के अनुसार पिछले बृहस्पतिवार को चुना गया और उन्हें महासभा और सुरक्षा परिषद दोनों में पूर्ण बहुमत मिला।

फ्रांस के रोनी अब्राहम, सोमालिया के अब्दुलकावी अहमद यूसुफ, ब्राजील के एंतोनियो अगस्ते कानकाडो त्रिनदादे और लेबनान के नवाफ सलाफ को चार दौर के चुनाव के बाद चुना गया।

आईसीजे के शेष एक उम्मीदवार के चयन के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद ने सोमवार को अलग-अलग बैठकें की थीं।