वाराणासी : बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त ने काशी में अपने पिता व 70 के दशक के मशहूर अभिनेता स्व. सुनील दत्त और मां नरगिस का पूरे विधि-विधान से पिंडदान कर श्राद्धकर्म पूरा किया। हर वर्ष पित्रपक्ष में लोग लाखों की संख्या में काशी( मोक्षस्थल) पहुंच कर अपने पितरों का पिंडदान करते हैं।

यही कामना लेकर यहां पहुंचे संजय दत्‍त ने अपने पिता स्व.सुनील दत्‍त व मां स्व. नरगिस का श्राद्ध कर्म किया। इस मौके पर संजय दत्त ने बताया कि आज मेरी यह इच्‍छा बाबा विश्‍वनाथ की कृपा से पूरी हुई।

ये भी पढ़े:

दबंग गर्ल का दावा, अगले 70 वर्ष तक करती रहेंगी अभिनय

उन्होंने कहा कि वाराणसी एक जिंदादिल शहर है, यहाँ के लोग खिदमत करना जानते हैं। यहाँ आकर हमें बहुत अच्‍छा लगा। काशीवासियों के इस प्‍यार को पाकर मैं अभिभूत हूं। संजय ने कहा कि पिताजी ने कहा था कि आजाद हो जाना तो पिण्डदान जरूर कर देना, इसलिए बनारस आया हूँ। संजय दत्त ने रानी घाट पर 8 ब्राह्मणों के द्वारा श्राद्ध कर्म का विधिवत पूजन कराया। इस दौरान फि‍ल्म 'भूमि में संजय की बेटी बनी अभिनेत्री अदिति राव भी उनके साथ रहीं।

आज ही के दिन संजय दत्त अपनी आनेवाली फि‍ल्म "भूमि" का प्रमोशन भी किया। इस दौरान उनके साथ फिल्म की पूरी स्टारकास्ट निदेशक ओमंग कुमार, एक्ट्रेस अदिति राव, शेखर सुमन और पाखी हेगड़े भी होंगी। फिल्म 22 सितंबर को रिलीज होगी। 12 सितंबर मंगलवार को शेखर सुमन और भोजपुरी एक्ट्रेस पाखी हेगड़े गंगा आरती देखने दशाश्वमेध घाट पहुंची थीं और सेल्फी भी ली। इस दौरान फैन्स के साथ फोटो भी खिंचवाई।