अहमदाबाद : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे ने बुधवार को अहमदाबाद के पुराने शहर स्थित 16वीं सदी की मस्जिद, सिदी सैय्यद की जाली का दौरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसी मस्जिद में पहली बार गए हैं। विपक्ष अब इसे भी मुद्दा बनाने से बाज नहीं आ रहा है। मुस्लिम टोपी लगाने से इंकार करने वाले पीएम मोदी पर विपक्ष हमलावर है। बता दें प्रधानमंत्री मोदी रमजान के दौरान इफ्तार पार्टी भी नहीं देते हैं।

विपक्ष के नेता इसे चुनावी गतिविधि से जोड़ रहे हैं। उनका कहना है कि अभी तक मोदी इससे पहले किसी मस्जिद में नहीं गए, लेकिन गुजरात में चुनाव नजदीक है और अल्पसंख्यक वर्ग को अपने से जोड़ने के लिए मोदी ने यह कदम उठाया है।

मोदी ने आबे और उनकी पत्नी अकी आबे का मस्जिद में स्वागत किया और उन्हें परिसर के दौरे पर ले गए। यह मस्जिद अपनी जाली खिड़कियों के लिए मशहूर है। गुजरात सल्तनत के अंतिम सुल्तान शम्स-उद-दीन मुजफ्फर शाह तृतीय की सेना के एक जनरल, अहमद शाह बिलाल झजर खान के अनुयायियों ने 1573 में इस मस्जिद का निर्माण कराया था।

मस्जिद का दौरा करने के बाद आबे दंपति सड़क पार एक धरोहर स्थल गए जहां मोदी रात्रिभोज की मेजबानी करेंगे।

इससे पहले मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए व्यक्तिगत तौर पर सरदार वल्लभ भाई पटेल हवाई अड्डे पर जाकर आबे का जोरदार स्वागत किया।

-आईएएनएस