नैरोबी : कीनियाई राष्ट्रपति उहरु केनयाता ने दूसरे कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति चुनाव जीत लिया है। चुनाव आयोग ने चुनाव में गड़बड़ी के विपक्ष के आरोप के बीच शुक्रवार को यह घोषणा की।

एफे की रिपोर्ट के अनुसार, केनयाता ने 54.27 प्रतिशत वोट हासिल कर प्रतिद्वंद्वी रैला ओडिंगा को हरा दिया। ओडिंगा को चुनाव में 44.74 प्रतिशत वोट हासिल हुए।

अंतिम चुनाव परिणाम की घोषणा सात घंटे देर से हुई और इस दौरान विपक्षी गठबंधन नेशनल सुपर एलाएंस (एनएएसए) के प्रतिनिधि मौजूद नहीं थे। गठबंधन ने चुनाव परिणाम स्वीकार न करने का संकेत दिया था।

निर्वाचन अधिकारी वाफुला चेबुकाती ने कहा कि चुनाव में 78.91 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि 2013 में करीब 85 प्रतिशत मतदान हुआ था।

एनएएसए का हालांकि कहना है कि इंडिपेंडेंट इलेक्टोरल एंड बाउंड्रीज कमीशन (आईईबीसी) के एक सूत्र द्वारा दिए गए आंकड़ों के अनुसार ओडिंगा ने 50.13 प्रतिशत वोट के साथ चुनाव जीता है।

एक अज्ञात सूत्र ने एनएएसए को बताया कि केनयाता की जीत सुनिश्चित करने के लिए इलैक्ट्रॉनिक वोटिंग प्रणाली से छेड़छाड़ की गई। हालांकि आईईबीसी ने इस आरोप को खारिज किया है।

चुनाव की निगरानी करने वाले सभी अंतर्राष्ट्रीय चुनाव पर्यवेक्षकों के अनुसार मतदान प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी थी।

केनयाता को राष्ट्रपति पद के लिए पुन: निर्वाचित घोषित किए जाने से पूर्व एनएएसए के प्रवक्ता जेम्स ओरेंगो ने कहा कि विपक्ष कानूनी कदम उठाने पर विचार नहीं कर रहा।

केनयाता की जीत की घोषणा के बाद विरोध प्रदर्शन की संभावना के मद्देनजर शुक्रवार को विपक्ष के प्रभाव वाले इलाकों में पुलिस की तैनाती की गई। आईईबीसी की घोषणा के तत्काल बाद लोगों का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया।

केनयाता ने परिणाम की घोषणा के बाद अपने पहले भाषण में विपक्ष समेत सभी से साथ मिलकर काम करने का आह्वान किया। उन्होंने साथ ही लोगों से शांति की अपील भी की।