नई दिल्ली : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को कहा कि जनता दल (युनाइटेड) के वरिष्ठ नेता शरद यादव अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र हैं।

नीतीश का यह बयान शरद यादव द्वारा बिहार में जद (यू) और भाजपा के गठबंधन के खिलाफ नाराजगी जताए जाने के बाद आया है।

नीतीश ने यहां संसद के बाहर संवाददाताओं से कहा, "पार्टी ने आम सहमति से फैसला लिया। वह (शरद यादव) अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र हैं।"

जरा इसे भी पढ़ें..

नीतीश कुमार ने लालू व कांग्रेस के लिए कर दी भविष्यवाणी, 2019 में होगा यह हाल..!

मोदी सरकार को विपक्षी दल दे सकते हैं यह अप्रत्याशित बड़ा झटका..!

लालू की बात पर नीतीश का दो टूक जवाब, नहीं बदलेगा फैसला..करें 2019 की तैयारी

इससे पहले शरद यादव ने दिल्ली से पटना पहुंचने पर हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा था कि वह अब भी महागठबंधन के साथ हैं, जिसे बिहार की 11 करोड़ जनता ने 2015 के विधानसभा चुनाव में पांच साल शासन का जनादेश दिया था।

अन्य संबंधित खबरें..

जदयू में बढ़ रहे 19 अगस्त तक विभाजन के आसार, शरद को अंधेरी राह में मिल रहा ‘लालटेन’ का साथ

पासवान की नहीं माने तो टूट सकती है नीतीश की पार्टी, लालू बनवा देंगे नई सरकार

तेजस्वी की मंत्रीमंडल से बर्खास्तगी के बाद के लिए लालू ने बना रखा है यह नया प्लान..!

जद (यू) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने कांग्रेस तथा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के साथ अपनी पार्टी को मिलाकर बने 20 माह पुराने महागठबंधन से अलग होते हुए 26 जुलाई को मुख्यंमत्री पद से इस्तीफा दे दिया था।

अगले ही दिन 27 जुलाई को उन्होंने एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाई।

जद (यू) अध्यक्ष ने यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और बिहार के विकास से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने कहा कि वह इस माह एक विस्तृत मुलाकात के लिए फिर यहां आएंगे।