हैदराबाद : गुजरात में राज्यसभा चुनाव पर दिनभर चला घमासान आखिरकार कांग्रेस ने अपने जुझारू तेवर से भाजपा के ओवर कांफिडेंस को ध्वस्त करते हुए जीत लिया है और इससे एक संदेश देने की कोशिश की है कि अमित शाह व भाजपा की हर रणनीति अभेद्य नहीं है और लड़ाई की हालात में भाजपा को पटखनी दी जा सकती है।

जिस तरह से चुनाव आयोग ने कांग्रेस की अपील पर कार्रवाई करते हुए देर रात दो बागी विधायकों के वोट रद कर दिए। इससे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल गुजरात से राज्यसभा का चुनाव जीत गए। पर भाजपा से पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी उम्मीद के मुताबिक ही आसानी से जीत हासिल करने के बाद भी अपने जीत का जश्न नहीं मना पाए।

संबंधित खबरें...

राज्यसभा चुनाव : क्रॉस वोटिंग पर आपत्ति, रोकी गई है मतगणना, चुनाव आयोग के दरवाजे पर मामला

स्वयंभू रक्षक स्वतंत्रता के लिए खतरा और बहुलवाद एवं विविधता के शत्रु : सोनिया

..और पूरा हो गया वाघेला का सपना, मित्र बोलकर झांसे में रखते रहे अहमद पटेल को

तीसरी सीट पर भाजपा के बलवंत सिंह के मुकाबले हारी बाजी जीत कर बाजीगर साबित हुए अहमद पटेल लगातार पांचवीं बार राज्यसभा में पहुंचने में सफल रहे और कांग्रेस यह साबित करने में सफल रही है कि भाजपा हर जगह अजेय नहीं है और उसकी चाल और हथकंडे को सही तरीके से हैंडल करके जीत की राह पर बढा जा सकता है।

भाजपा के खेमे में निर्दलीय विधायक नलिन कोटडिया के सोमवार की रात में जाने और कांग्रेस के क्रास वोटों के कारण अपनी जीत को पक्का मानकर ओवर कांफिडेंट हो गई थी।

गुजरात में राज्यसभा के चुनाव में कांटे की टक्कर के बीच मंगलवार को मतदान के दौरान करीब 10 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की। सुबह मतदान शुरू होने के साथ ही कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल की जीत की उम्मीद कम होती गई थी।

वाघेला का दांव फेल

राकांपा और जदयू के विधायकों ने भी पार्टी आलाकमान के खिलाफ जाकर अपनी स्थानीय राजनीति के हिसाब से मतदान किया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस के बागी शंकर सिंह वाघेला ने अपनी योजना के मुताबिक सभी बागी विधायकों का मतदान पहले एक घंटे में ही करा दिया। बाद में बेंगलुरु गए 44 विधायकों में से एक विधायक ने भी कांग्रेस के खिलाफ मतदान किया। शाम चार बजे सभी 176 वोट डाल दिए गए थे। एक घंटे में नतीजे की उम्मीद की जा रही थी। तभी कांग्रेस ने निर्वाचन आयोग के दरवाजे जा पहुंची।

10 विधायकों ने की क्रास वोटिंग

वाघेला सहित आठ विधायक महेंद्र सिंह वाघेला, राघवजी पटेल, धर्मेंद्र सिंह जडेजा, हकूभा जडेजा, भोलाभाई गोहिल, करमशी मकवाणा, सीके राउलजी ने क्रॉस वोट किया। राकांपा के दो वोट भी कांग्रेस और भाजपा में बंट गए जबकि जदयू ने अहमद पटेल को वोट दिया। हालांकि मतगणना के पहले तक जदयू के आला कमान के नेता भाजपा के पक्ष में वोट की बात दोहराते रहे।

----विजय कुमार तिवारी, साक्षी समाचार, हैदराबाद