राष्ट्रपति चुनाव के लिए NDA उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के नाम की घोषणा होते ही उनके बारे में जानने की उत्सुकता लोगों में बढ़ी है। दलित चेहरा और यूपी बिहार से जुड़े होने के कारण कोविंद के लिए कई गैर एनडीए पार्टियों का समर्थन मिलना आसान होगा।

रामनाथ कोविंद का जन्म 1945 में उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव परौंख में अनुसूचित जाति परिवार में हुआ था। इन्होंने कानपुर के डीएवी कॉलेज से कानून में स्नातक की डिग्री हासिल की थी। इन्होंने 16 सालों तक दिल्ली हाइकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में वकालत की प्रैक्टिस की। 1977-79 तक दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार के वकील रहे। फिर 1980-93 के बीच सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के वकील रहे।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिलते हुए रामनाथ कोविंद
बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिलते हुए रामनाथ कोविंद

अप्रैल 1994 में वे पहली बार राज्यसभा के सदस्य के तौर पर चुनकर आए। सांसद के तौर पर इनकी सक्रिय भूमिका रही। रामनाथ कोविंद ने दो बार राज्यसभा सांसद के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा किया।

कोविंद बीजेपी में सक्रिय रहे और 1998-2002 के बीच बीजेपी दलित मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर पार्टी को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई। इसके अलावा उन्होंने यूपी बीजेपी में महामंत्री के तौर पर काम किया।

राजनीति के अलावा समाजसेवा में भी रामनाथ कोविंद का योगदान रहा है। कुष्ठ रोगियों की सेवा केलिए 'दिव्य प्रेम सेवा मिशन' के वे आजीवन संरक्षक हैं।

रामनाथ कोविंद सांसद रहते हुए कई संसदीय समितियों के सदस्य भी रहे हैं। ये समितियां हैं- आदिवासी, होम अफ़ेयर, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, सामाजिक न्याय, क़ानून न्याय व्यवस्था और राज्यसभा हाउस कमेटी के भी चेयरमैन रहे।

कोविंद गवर्नर्स ऑफ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के भी सदस्य रहे हैं। 2002 में कोविंद ने संयुक्त राष्ट्र के महासभा को संबोधित किया। कोविंद ने कई देशों की यात्रा भी की है।

कोविंद की पहचान एक दलित चेहरे के रूप में अहम रही है। छात्र जीवन में कोविंद ने अनुसूचित जाति, जनजाति और महिलाओं के लिए काम किया।

12 साल के अपने संसदीय कार्यकाल में कोविंद ने शिक्षा से जुड़े कई मुद्दे उठाए। वकालत के दौरान भी कोविंद गरीबों का केस मुफ्त में लड़ा करते थे।

कोविंद की शादी 30 मई 1974 को सविता कोविंद से हुई थी। इनके एक बेटे प्रशांत हैं और बेटी का नाम स्वाति है।