नई दिल्ली: बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को बीजेपी ने राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार घोषित किया है। इसके बाद से ही हलचल जारी है। कोविंद आज शाम विशेष विमान से दिल्ली पहुंचे। यहां बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। खुद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी उनके साथ थे। कोविंद और शाह सीदे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने उनके आवास पहुंचे। जहां दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई।

इससे पहले प्रधानमंत्री ने रामनाथ कोविंद को बधाई दी। साथ ही उनसे बेहतर और सक्षम कार्यकाल की उम्मीद जताई। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कोविंद को शुभकामनाएं दीँ। पीएम के मुताबिक कोविंद किसाने के बेटे हैं और उन्होंने पूरा जीवन गरीबों के लिए समर्पित कर दिया।

दिल्ली एयरपोर्ट पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, कैबिनेट मंत्री थावरचंद गहलोत उन्हें रिसीव करने पहुंचे। दिल्ली पहुंचते ही कोविंद ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार घोषित किए जाने पर पीएम मोदी, अमित शाह और संसदीय बोर्ड के सदस्यों का धन्यवाद कहा।

हालांकि कोविंद के नाम पर शिवसेना और ममता बनर्जी जैसे नेताओं ने ऐतराज जताया है। ममता बनर्जी ने कहा कि आडवाणी और सुषमा स्वराज जैसे कद्दावर नेता ही राष्ट्रपति पद के लिए ठीक थे। वहीं शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने दलित वोट बैंक हासिल करने के लिए रामनाथ कोविंद को उम्मीदवार बनाया है। वहीं मायावती ने कहा कि विपक्ष अगर किसी कद्दावर दलित को उम्मीदवार नहीं बनाता है तो वे कोविंद को समर्थन दे सकती हैं। उधर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने हालांकि रामनाथ कोविंद को शुभकामना जरूर दी, लेकिन समर्थन के सवाल पर कन्नी काट गए। उन्होंने कहा कि विपक्ष मिल बैठकर अभी तय करेगा कि क्या करना है।