चेन्नई : द्रमुक नीत तमिलनाडु के विपक्ष ने अन्नाद्रमुक विधायकों की कथित खरीद फरोख्त को लेकर आज राज्य सरकार पर अपना हमला तेज कर दिया और राज्यपाल सी. विद्यासागर राव से 18 फरवरी के विश्वास मत को ''अमान्य ठहराने'' का अनुरोध किया।

विपक्षी दलों ने राज्यपाल के साथ हुई एक बैठक में उनसे सरकार को बर्खास्त करने और नये सिरे से बहुमत साबित करने का आदेश देने का आग्रह किया।

ये भी पढ़े :

सुषमा स्वराज ने कहा : मैं विदेश मंत्री और राष्ट्रपति पद के चुनाव में उम्मीदवारी ‘अफवाह’

तेज प्रताप के पेट्रोल पंप का लाइसेंस रद्द किये जाने पर लगी अस्थाई रोक

ऐसे चलता था सरोगेसी का गोरख धंधा, देश-विदेश की महिलाओं को फसा रखा था नेटवर्क में

मुद्दे पर राज्य विधानसभा में हंगामा होने के बीच द्रमुक, कांग्रेस और आईयूएमएल ने ''धन के स्रोत का पता लगाने और भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत अपराधों'' का पता लगाने के लिए सीबीआई और डीआरआई या प्रवर्तन निदेशालय से जांच कराने की मांग की।

द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम के स्टालिन के नेतृत्व में विपक्षी दलों ने यहां राजभवन में राव से मुलाकात की और अपनी मांगों को रेखांकित करते हुए एक ज्ञापन सौंपा।