खम्मम: एक महिला ने पति के साथ मिलकर पति की योजनाबद्ध तरीके से हत्या करवा दी। अवैध संबंधों में रोड़ा बनने के कारण ही इस घटना को अंजाम दिया गया। यह घटना कोत्तागुडेम में घटी। पुलिस ने बताया कि पाल्वंचा मंडल के सोमुलगुडेम गांव का रहने वाला सपावट श्याम(43) किन्नेरसानी पाठशाला में अध्यापक था। उसका विवाह 13 साल पहले बुर्गमपाडू मंडल के अंजनापुरम् गांव की रहनेवाली शारदा (32) के साथ हुआ। इनकी दो बेटियां है।

पास के गांव सुरारम का रहनेवाला 30 वर्षीय बेरोजगार युवक साईकृष्णा के साथ शारदा का परिचय हुआ और बाद में इनके बीच करीबियां बढती गयी। जब श्याम घर पर नही होता था तब साईकृषणा शारदा के घर आता था। इसी क्रम में ग्रीषमकालीन अवकाश होने से बच्चे और श्याम घर पर ही रहने लगे। इससे शारदा और साईकृषणा के बीच मिलने का सिलसिला बंद हो गया।

इससे इन दोनो ने श्याम की हत्या करने की योजना बनाई। श्याम और शारदा के बीच काफी दिनों से झगड़ा भी चल रहा था। इन दोनों ने हत्या करने के लिए साईकृष्णा के दोस्त राजू और उसकी पत्नी सुजाता के अलावा संतोष,नरेशसे संपर्क किया और इस बात का समझौता हुआ कि श्याम की हत्या करने के बाद उन्हे दो लाख रुपये दिये जाएंगे। 30 अप्रैल के दिन श्याम के साथ शारदा ने जानबूझ कर झगड़ा किया और कहा कि मामले को सुलझाने के लिए वह उसके साथ इल्लेंदू अपने रिश्तेदार के घर चले।

श्याम इसके लिए राजी हो गया। दोनो स्कूटी पर इल्लेंदू के लिए रवाना हुए। थोडी दूर जाने के बाद शारदा ने उसे गोल्लागुडेम चलने को कहा। श्याम इसके लिए भी राजी हो गया। दोनो राजू और सुजाता के घर गये। वहां पहले से ही संतोष और नरेश मौजूद थे।

मौका देखकर चारो ने चुन्नी से श्याम का गला घोंटकर मार डाला और आटो में डालकर लक्ष्मीदेवीपल्ली मंडल के लोतुवागु के पास रेलवे ब्रिज के पास फेंक दिया और वापस घर आ गये। बाद में शारदा ने अपने ससुराल वालों को बताया कि वे बाजार गये थे और बाद में श्याम दोस्त की शादी कहकर बीच रास्ते में ही छोड़कर चला गया और तब से वापस घर नही लौटा है।

इससे घबराये श्याम के घरवाले उसे ढूंढने निकले। उसी दौरान रेलवे ब्रिज के पास लोगों की भीड़ देखकर वे वहां गये तो श्याम की लाश पड़ी हुई थी। उन्होने पुलिस से इसकी शिकायत की। पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गयी।

पुलिस को पहले शारदा पर शक नही हुआ, लेकिन श्याम की मौत के बाद साईकृष्णा के बार-बार शारदा के घर आने से पुलिस को शक हुआ इनसे कडाई से पूछताछ की। उन्होने अपना अपराध स्वीकार कर लिया। पुलिस ने अन्य आरोपियों को भी हिरासत में ले लिया है।