चंडीगढ़ : किसानों संगठनों द्वारा कर्ज माफी और उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाए जाने की मांग को लेकर बुलाए गए राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन के दौरान शुक्रवार को सैकड़ों किसानों ने दिल्ली को पंजाब और हरियाणा से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-1 सहित कई बड़े राजमार्गों पर जाम लगा दिया।

किसानों ने यहां से लगभग 45 किलोमीटर दूर हरियाणा के अंबाला में अनाज मंडी के पास राष्ट्रीय राष्ट्रीय राजमार्ग-1 पर जाम लगा दिया।

प्रदर्शनकारी किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग-1 पर अपने ट्रैक्टरों को खड़ा कर दिया और तेज गर्मी के बावजूद सड़क पर फैल गए।

हरियाणा किसान संघ के अध्यक्ष गुरनाम सिंह ने कहा, "हमने केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ विरोध करने के लिए राजमार्ग पर जाम लगाया है। हम तीन घंटे के लिए राजमार्ग को जाम रखेंगे। हम शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और जब तक केंद्र सरकार हमारी मांगों को नहीं मानेगी, हम नहीं हटेंगे।"

पड़ोसी राज्य पंजाब में किसानों ने औद्योगिक शहर फगवाड़ा के पास यातायात को रोक दिया।

हरियाणा और पंजाब के किसानों द्वारा अन्य राजमार्गो को भी जाम करने की खबरें आई हैं।

किसानों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए विभिन्न जगहों पर बड़ी संख्या में में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

किसानों के समर्थन में शुक्रवार को हरियाणा में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने कुरुक्षेत्र में रैली की।

किसान कृषि क्षेत्र में स्वामीनाथन कमीशन की उस रिपोर्ट को लागू करने की मांग कर रहे हैं, जिसमें किसानों के लिए ऋण माफी, फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने और अन्य मांगों को स्वीकार करने की बात कही गई हैं।