जगदलपुर : छत्तीसगढ़ के बस्तर में हुई मुठभेड़ में पुलिस ने नक्सलियों की कंपनी नंबर 6 के वर्दीधारी सेक्शन कमांडर को मार गिराया। लगभग तीन घंटे चली इस मुठभेड़ के बाद एक राइफल सहित भारी मात्रा में गोला-बारूद व अन्य सामग्री बरामद की गई।

मुठभेड़ गुरुवार को हुई, जिसकी पुष्टि पुलिस महानिरीक्षक ने शुक्रवार को एक प्रेसवार्ता के दौरान की।

पुलिस ने दावा किया है कि गोलीबारी के दौरान अन्य 8-10 नक्सली भी मारे गए, जिनके शवों की तलाश की जा रही है।

बस्तर के पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई थी कि नक्सलियों की कंपनी नंबर-6 बेचा गांव से कुदुर की ओर जा रही है। नक्सली 14 मई को पूर्वी बस्तर डिवीजन के कमांडर विलास की मौत का बदला ले सकते हैं। इस सूचना पर एसटीफ और डीआरजी की संयुक्त टीम गठित कर कुल 150 जवानों को ककनार क्षेत्र में कुदुर के जंगलों की ओर रवाना किया गया था।

उन्होंने बताया कि जवानों ने भंवरडीह नदी के पास यू आकर का अम्बुश लगाया। 12 घंटे के इंतजार के बाद नक्सलियों के साथ जवानों का आमना-सामना हुआ।

सिन्हा ने बताया कि जवानों की मौजूदगी भांपकर नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। जवानों के जवाबी फायरिंग में सेक्शन कमांडर महेश मारा गया। मुठभेड़ के दौरान 8-10 नक्सली दौड़कर भागने की कोशिश कर रहे थे, और नदी में फिसलकर गिर गए। जवानों ने उन्हें बहते हुए देखा।

सिन्हा ने आगे कहा कि नक्सलियों की फायरिंग में एसटीफ के एक जवान मनीष झा को भी पेट में गोली लगी है, जिसका उपचार किया जा रहा है।

घटनास्थल से एक वर्दीधारी नक्सली का शव सहित सेल्फ लोडिंग राइफल, वाकीटाकी सेट, नक्सली साहित्य, पानी की बोतल और पिट्ठू बैग बरामद किया गया है। उन्होंने कहा कि जवानों को इस कार्य के लिए नगद इनाम भी दिया जा रहा है।