हैदराबाद: जमीन पर अवैध कब्जा किये जाने के मामले को लेकर आरोपों में घिरे TDP के विधान परिषद सदस्य दीपक रेड्डी के अलावा अधिवक्ता शैलेश सक्सेना और श्रीनिवास की न्यायिक हिरासत की अवधि गुरुवार को समाप्त होने के बाद हिरासत की अवधि बढ़ाने को लेकर अदालत में याचिका दायर करने पर पुलिस विचार कर रही है।

इस मामले को लेकर गुरुवार को इन तीनों आरोपियों को नामपल्ली अदालत में पेश किया गया। न्यायाधीश के आदेश के बाद न्यायिक हिरासत के अंतर्गत उन्हे चंचलगुडा जेल भेज दिया गया। सीसीएस पुलिस ने इनसे तीन दिनों लगातार तक पूछताछ की। पूछताछ के दौरान उन्हे एसीपी कार्यालय ले जाया गया।

दीपक रेड्डी ने बताया कि शैलेश रेड्डी ने कहा था कि वह जमीन खरीद रहा है।इसके लिए उसकी मदद की जरूरत है। दीपक रेड्डी ने कहा कि उसने केवल पूंजी निवेश किया था। सूत्रों का कहना है कि पूछताछ के दौरान पुलिस को कई महत्वपूर्ण जानकारियां मिली है।

पता चला है कि पुलिस को इस बात की जानकारी मिली है कि आखिरकार इन्होने स्टांप और दस्तावेज कहां बनवाये थे। पूछताछ के दौरान शैलेश ने बताया कि इस मामले को लेकर दीपक रेड्डी को पूरी जानकारी थी। जीपीए के दौरान दीपक रेड्डी खुद आकर हस्ताक्षर किये थे। अदालत ने जमीन के कुछ टुकडों को लेकर जब आदेश जारी किया था तब उसे अपने अधीन करने के लिए खुद दीपक रेड्डी आये थे।