हैदराबाद : नोटबंदी के बाद साइबर अपराध की घटनाओं में कमी दर्ज होने की खबर है। तेलंगाना के साइबर क्राइम पुलिस अधिकारियों के मुताबिक नोटबंदी के बाद एटीएम सेंटरों में रुपये नहीं रहने लगे है। यही नहीं, नोटबंदी से पहले लोगों को इंटरनेट बैंकिंग का पर्याप्त ज्ञान नहीं होने का फायदा उठाते हुए साइबर अपराधी आसानी से अपने काम को अंजम दे पाते थे।

परंतु नोटबंदी के बाद हर कोई मोबाइल बैंकिंग और इंटरनेट बैंकिंग के विषय में सावधानी बरत रहे हैं। एटीएम सेंटरों पर होने वाले स्कीमिंग जैसे हादसे अब कहीं भी नहीं हो रहे है और इसका मुख्य कारण है एटीएम मशीनों में रुपये भरने के कुछ ही देर में मशीन का खाली हो जाना है।

ग्रामीण क्षेत्र में नये नोटों के लिये एटीएम सेंटरो के पाक कतार होने से साइबर अपराधियों को स्कीमिंग के उपकरण लगाने का मौका नहीं मिल रहा है। साइबर क्राइम विभाग के उच्चाधिकारियों के अनुसार 8 नवंबर 2016 से पहले प्रति दिन राज्यभर में 3 से 4 साइबर क्राइम की घटनाएं जरूर घटती थीं, लेकिन वर्तमान में सप्ताह में एक या दो वारदातें भी नहीं घट रही हैं।