नई दिल्ली: कांग्रेस के एक और कद्दावर नेता शशि थरूर ने विवादित बयान देकर पार्टी को मुश्किल में खड़ा कर दिया है। दरअसल थरूर ने दावा किया है कि 2019 में मोदी के दोबारा सत्ता में आने पर देश 'हिंदू पाकिस्तान' बन जाएगा।

इस बयान पर बीजेपी ने हल्ला बोल दिया है। दावा किया जा रहा है कि थरूर के जरिए कांग्रेस पार्टी की साम्प्रदायिक राजनीति की ये चाल है। बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने थरूर के बयान को हिंदुओं पर हमला बताया।

यह भी पढ़ें:

सुनंदा पुष्कर आत्महत्या मामला : कोर्ट ने शशि थरूर को माना आरोपी

वहीं थरूर के बयान को निजी विचार बताकर कांग्रेस पार्टी इससे किनारा कर रही है। जबकि शशि थरूर भी अपने बयान पर अड़े हुए हैं। थरूर ने सोशल मीडिया पर पोस्ट जारी कर अपनी बात को और पुख्ता करने की कोशिश की। थरूर ने लिखा, 'मैंने ऐसा पहले भी कहा है और एक बार फिर कहूंगा। पाकिस्तान का जन्म एक धर्म विशेष की आबादी के लिए हुआ था और जिसने अपने देश के अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव किया। अल्पसंख्यकों को पाकिस्तान में उनके मौलिक अधिकारों से भी वंचित रखा गया। भारत ने उस तर्क को कभी स्वीकार नहीं किया जिसके आधार पर दो देशों का बंटवारा हुआ था।'

शशि थरूर के कथित विवादित बयान पर बीजेपी ने सीधे राहुल गांधी से माफी की मांग की है। बीजेपी भी इस बयान को हिंदू विरोधी बताकर भुनाने की पूरी कोशिश कर रही है। मीडिया से बात करते हुए पात्रा ने उन कांग्रेसी नेताओं के नाम गिनाए, जिन्होंने इससे पहले हिंदुओं के बारे में कथित तौर पर आपत्तिजनक बातें कही थीं। इनमें शुमार नेता गुलाम नबी आजाद, दिग्विजय सिंह, सैफुद्दीन सोज, सुशील कुमार शिंदे बताए गए।