नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन की मौजूदगी में दुनिया की सबसे बड़ी सैमसंग मोबाइल फैक्ट्री का उद्घाटन किया। दिल्ली से सटे नोएडा में इस फैक्ट्री का शुभारंभ किया गया। दक्षिण करोरियाई राष्ट्रपति मून और पीएम मोदी ने संयुक्त रूप से फीता काटा। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें:

सैमसंग, क्वालकॉम मिलकर बनाएंगे 5जी मोबाइल चिप

कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति को परियोजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही पीएम ने दावा किया कि भारत मोबाइल फोन विनिर्माण के क्षेत्र में दूसरा सबसे बड़ा देश बन गया है।

प्रधानमंत्री ने नोएडा सैम्संग फैक्ट्री को 'मेक इन इंडिया' की दिशा में बड़ा कदम बताया। वहीं उन्होंने दावा किया कि इससे युवाओं को रोजगार का बड़ा अवसर मिलेगा। प्रधानमंत्री ने इस अहम मौके पर सैमसंग को भी बधाई दी।

पीएम ने दावा किया कि भारत में फिलहाल चालीस करोड़ लोग स्मार्ट फोन का इस्तेमाल करते हैं। वहीं द कोरियाई राष्ट्रपति की मौजूदगी में प्रधानमंत्री मोदी ने स्वीकार किया कि भारत का शायद ही कोई ऐसा घर हो जहां कोरियाई सामान का इस्तेमाल नहीं होता है।

प्रधानमंत्री ने इसे उपलब्धि के तौर पर गिनाया कि देश में फोबाइल मैनुफैक्चरिंग की दो कंपनियों से 120 कंपनियां हो गई हैं। अकेले नोएडा में करीब 50 मोबाइल फोन निर्माता कंपनियां हैं।

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून ने मेट्रो की सवारी कर उद्घाटनस्थल तक का सफर तय किया। दोनों नेता गांधी स्मृति भवन भी पहुंचे जहां महात्मा गांधी के पसंदीदा भजनों का गायन हुआ।

मेट्रो में पीएम की यात्रा के दौरान बड़ा तामझाम देखने को नहीं मिला। आम आदमी की ही तरह पीएम ने भी टोकन लेकर यात्रा की। साथ ही बाकी यात्री भी बिना किसी दिक्कत के मेट्रो से आते जाते रहे।