न्यूयॉर्क : वैज्ञानिकों ने एक मस्तिष्क प्रोटीन की पहचान की है, जो व्यक्ति के शराब पीने की क्षमता से जुड़ा हुआ है। इन वैज्ञानिकों में एक भारतीय मूल का भी है। इस शोध से शराब की लत से परेशान लोगों के इलाज का मार्ग प्रशस्त हो सकता है।

शोधकर्ताओं के दल ने पाया कि मस्तिष्क प्रोटीन, जिसे एमयूएनसी 13-1 कहते हैं, वह शराब पीने की क्षमता के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह भी पढ़ें :

मस्तिष्क के व्यवहार को नियंत्रित कर सकता है नया जैव उपकरण

कम मात्रा में शराब पीना दिमाग के लिए अच्छा : अध्ययन

टेक्सास के ह्यूस्टन विश्वविद्यालय के जयदीप दास ने कहा, "शराब की लत दुनिया भर में सबसे महत्वपूर्ण मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में एक है। लत में पड़ने के दौरान एथेनाल या शराब व्यक्ति के व्यवहार व दिमाग में कैसे बदलाव लाते हैं, यह समझना एक बड़ी चुनौती है।" दास बताते हैं कि इस अवस्था में इसके प्रति सहनशीलता विकसित होना एक महत्वपूर्ण कदम है।

उन्होंने कहा, "यदि कोई व्यक्ति एक बार शराब पीकर उसे बर्दाश्त कर सकता है तो वह दूसरी बार और फिर पीता है। यदि हम शराब को एमयूएनसी13-1से बंधने से रोक सकें तो यह शराबियों में शराब को बर्दाश्त करने की क्षमता घटाने में मददगार होगा। यदि हम शराब बर्दाश्त करने की क्षमता घटा सकें, तो शराब की लत लगने से भी रोक सकते हैं।"