बीजिंग : वैज्ञानिकों ने आगाह किया है कि नाइट शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं में स्तन, चमडा और पेट के कैंसर का जोखिम बढ़ जाता है। दुनिया भर में महिलाओं में सबसे ज्यादा स्तन कैंसर का निदान होता है। पूर्व के विश्लेषण में रात की पाली में काम करने वाली महिलाओं और स्तन कैंसर के जोखिम के बीच संबंध पर फोकस किया गया था, लेकिन निष्कर्ष असंगत रहा।

पूर्व के अध्ययनों का चीन में सिचुआन विश्वविद्यालय के अध्ययनकर्ताओं ने विश्लेषण किया कि क्या रात की लंबी शिफ्ट में काम करने वाली महिलाओं का 10 से ज्यादा तरह के कैंसर के बीच किसी तरह का जुड़ाव है या नहीं। उत्तर अमेरिका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और एशिया के 3,909,152 भागीदारों तथा कैंसर के 114,628 मामले वाले 61 आलेखों के आंकडों का सूक्ष्म विश्लेषण किया गया।

इन अध्ययनों में रात में देर तक किये जाने वाले कार्य और 11 प्रकार के कैंसर के जोखिमों के बीच विश्लेषण किया गया। बाद में फिर एक विश्लेषण में महिला नर्सों के बीच रात की लंबी शिफ्ट और छह तरह के कैंसरों के बीच संबंध पर गौर किया गया।

कुल मिलाकर लंबी नाइट शिफ्ट से महिलाओं के बीच कैंसर के जोखिम में 19 प्रतिशत का इजाफा देखा गया। खास तरह के कैंसर का विश्लेषण करने पर अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि इस समूह में चमड़े (41 प्रतिशत) , स्तन (32 प्रतिशत) और पेट संबंधी कैंसर (18 प्रतिशत) का जोखिम उन महिलाओं की तुलना में बढ़ जाता है जो रात्रि पाली में काम नहीं करती हैं।