मुंबई : आजकल देश में युवाओं के बीच यात्रा करने का रुझान बढ़ रहा है। वहीं वह अपनी यात्रा से जुड़ी तस्वीरों और वीडियो इत्यादि को सोशल मीडिया पर खूब शेयर करते हैं। लेकिन एक सर्वेक्षण बताता है कि ऐसा वह उनकी यात्रा में शामिल नहीं हो पाने वाले दोस्तों के समक्ष डींग हांकने या फिर अपने फॉलोअर्स से प्रशंसा पाने के लिए करते हैं।

ऑनलाइन होटल बुकिंग कारोबार करने वाली कंपनी होटल्स डॉट कॉम के मोबाइल ट्रैवल ट्रैकर के अनुसार उसके सर्वेक्षण में शामिल 40 लोगों ने माना कि अपनी यात्रा के दौरान वह औसतन चार घंटे एक दिन में अपने मोबाइल पर गुजारते हैं। हालत यह है कि वह एक बेहतरीन समुद्र किनारे के दृश्य को छोड़कर मोबाइल फोन की स्क्रीन से जुड़े रहना पसंद करते हैं।

सर्वेक्षण बताता है कि जो लोग यात्रा के दौरान सोशल मीडिया पर डींगे मार रहे होते हैं उनमें से 64 प्रतिशत फोटो खाने से जुड़ी होती हैं। यह लोग इन फूडपोर्न का इस्तेमाल अपने उन दोस्तों को चिढाने के लिए करते हैं जो घर पर रोटी-सब्जी के साथ अटके हुए हैं। इस तरह वह दुनियाभर की खासमखास खाने की चीजों की फोटो साझा करते हैं।

मोबाइल ट्रैवल ट्रैकर सर्वेक्षण नवंबर 2017 में वन पोल ने किया था। इसमें 30 देशों के करीब 9,000 लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी थी।

सर्वेक्षण के अनुसार इसमें शामिल 18 से 29 साल की करीब 85 प्रतिशत आबादी एप पर फोटो में फिल्टर लगाने, सेल्फी खींचने को पसंद करती है और इसमें से करीब 51 लोगों का मानना है कि वह घूमने वाली जगहों की फोटो से ज्यादा सेल्फी को सोशल मीडिया पर साझा करना पसंद करते हैं।

भारत के करीब 31 लोगों ने माना कि वह अपने जीवनसाथी के बजाय अपने स्मार्टफोन के साथ यात्रा करना ज्यादा पसंद करते हैं। यात्रा करने वाले 29 प्रतिशत का कहना है कि उनके फोन की बैटरी समाप्त हो जाये तो वह ज्यादा परेशान होती है जबकि दो प्रतिशत ने कहा है कि यात्रा के दौरान अपने जोडीदार से बहस होने पर उन्हें परेशानी होती है।