नई दिल्ली: पाकिस्तान की अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को 10 साल की सजा और उनकी बेटी मरियम को 7 साल की सजा सुनाई है। इसी साल पाकिस्तान में आम चुनाव होने हैं। ऐसे में इस फैसले का बड़ा राजनीतिक असर होने की बात कही जा रही है।

इससे पहले जवाबदेही कोर्ट ने फैसले को एक हफ्ते टालने का अनुरोध किया था। जिसे ठुकराते हुए पाकिस्तान की अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री और उनकी बेटी को कड़ी सजा सुनाई।

यह भी पढ़ें:

नवाज शरीफ आजीवन नहीं लड़ सकेंगे चुनाव, सर्वोच्च अदालत ने दिया झटका

दरअसल नवाज शरीफ की लंदन के पॉश एवेनफिल्ड हाउस में चार फ्लैट है, जिसके साबित होने पर अदालत ने उन्हें भ्रष्टाचार मामले का दोषी माना। कोर्ट ने नवाज की बेटी मरियम शरीफ को भी सात साल की सजा सुनाई। साथ ही दोनों बेटों बेटों हुसैन और हसन को भगोड़ा घोषित किया। कोर्ट ने नवाज शरीफ के दोनों बेटों के खिलाफ आजीवन अरेस्ट वारंट जारी किया। जिसका मतलब ये है कि पुलिस नवाज शरीफ के बेटों को तब तक खोजती रहेगी, जब तक कि उनकी मौत न हो जाय।

इसके अलावा कोर्ट ने भ्रष्टाचार मामले में नवाज शरीफ पर 8 मिलियन पाउंड का जुर्माना ठोंका।

पाकिस्तान कोर्ट के फैसले का दूरगामी असर होगा। नवाज शरीफ पहले से ही चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य ठहराए जा चुके हैं। उनकी बेटी मरियम ने पिता की राजनीतिक विरासत आगे ले जाने की कोशिश की थी। जिसे झटका लगा है और इस फैसले के बाद मरियम भी अब चुनाव नहीं लड़ सकेंगी। वहीं नवाज शरीफ के बेटों को पुलिस सरगर्मी से खोज रही है। लिहाजा उनके राजनीतिक भविष्य पर प्रश्नचिह्न लग गया है