फुकेत : पर्यटकों के प्रिय स्थल के तौर पर मशहूर थाईलैंड के फुकेत के पास एक पर्यटक नौका डूब जाने की घटना के बाद बचावकर्मियों ने 28 शवों को निकाला है। नौका पर दर्जनों चीनी पर्यटक सवार थे। कल शाम तूफान में फंसने के कारण फीनिक्स टूरिस्ट नौका हादसे के शिकार हुए लोगों के शव पानी के अंदर पाए गए।

थाईलैंड पर्यटन पुलिस के उपायुक्त अर्चयोन क्रेथोंग ने बताया , ‘‘26 शव निकालकर यहां लाए गए हैं। कम से कम दो शवों को जल्द यहां लाया जाएगा। '' उन्होंने कहा , ‘‘ मिशन जारी रहेगा। '' फुकेत में एक चीनी महिला को अस्पताल पहुंचाया गया। घटनास्थल पर मौजूद एएफपी संवाददाता के मुताबिक नौका डूबने के स्थान से कई किलोमीटर दूर उसने पानी में रात गुजारी। उसकी स्थिति के बारे में पता नहीं है।

अस्पताल में अपनी पत्नी लोंग हई निंग के बिस्तर के पास खड़े वू जून (28) ने बताया , ‘‘ हम जब निकले तब आसमान साफ था, हमें पता नहीं था कि मौसम इतना जल्द खराब हो जाएगा। '' दंपति हनीमून बनाने यहां आए थे और दोनों इस दुर्घटना में बच गए।

आज सुबह कुल 56 यात्रियों के लापता होने की खबर थी और हाल के थाईलैंड के इतिहास में यह सबसे भयंकर नाव हादसा है। यह नौका फुकेत से समंदर में ऐसे वक्त रवाना हुई थी जब खराब मौसम को लेकर चेतावनी जारी की गई थी। नौका को पांच मीटर ऊंची तूफानी लहरों का सामना करना पड़ा और यह अंडमान सागर में 40 मीटर नीचे डूब गई। फुकेत के गवर्नर नोराफट प्लोदथोंग ने संवाददाताओं से कहा , ‘‘ मुझे नहीं पता कि कितने लोग बचेंगे। '' हादसे के वक्त फीनिक्स में 105 यात्री सवार थे जिनमें से अधिकतर चीनी पर्यटक थे।

राहतकर्मियों ने हादसे के बाद चलाए गए अभियान में 48 यात्रियों और चालक दल के सदस्यों को बचा लिया था। बाद में अभियान को गुरुवार देर शाम को बंद कर दिया गया था। शुक्रवार को यात्रियों के जीवित बचने की उम्मीद बेहद कम रह गई और एंबुलेंस फुकेत द्वीप के चालोंग पीर में शवों के इंतजार में खड़ी नजर आईं।

इससे पहले फुकेत प्रांतीय राहत केंद्र ने बताया था कि समुद्र से 21 शवों को निकाला गया। थाई सेना के अधिकारी चरोनफोन खुमरसी ने बताया कि गोताखोरों ने डूबी हुयी नौका में 10 से ज्यादा शव देखे हैं।