शिमला : हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि भारतीय संस्कृति के बलिदानियों का इतिहास गौरवमयी रहा है। वे ऐसे दीवाने थे, जिन्होंने न अपनी, न अपने परिवार की चिंता की, बल्कि वह देश व हमारे लिए कुर्बान हो गए, ताकि हम स्वतंत्र हो सकें। बलिदानियों के इस इतिहास में पझौता गोलीकांड के क्रांतिकारियों के नाम भी दर्ज हैं, जिन्हें हम नमन करते हैं।

राज्यपाल सोमवार को सिरमौर जिले के हाब्बन में आयोजित पझौता गोलीकांड की हीरक जयंती समारोह (75 वर्ष) के अवसर पर जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। देवव्रत ने कहा, "वैद्य सूरत सिंह हिमाचल प्रदेश के गौरव हैं। हमें ऐसे महान क्रांतिकारी पर गर्व होना चाहिए। समूचे क्षेत्र में वैद्य सूरत सिंह का विशेष सम्मान था, यही वजह है कि वह क्षेत्र से निर्विरोध चुनाव जीते। वह सभी के प्रेरणा प्रेरणास्रोत हैं।"

उन्होंने कहा कि पझौता गोलीकांड के 55 स्वतंत्रता सेनानियों को कालापनी की सजा सुनाई गई। वैद्य सूरत सिंह उन 9 व्यक्तियों में एक थे, जिन्होंने गोलीकांड का नेतृत्व किया। राज्यपाल ने कहा कि पिछले पौने तीन वर्षो से उन्होंने राज्य में कुछ सामाजिक बिंदुओं पर अभियान शुरू किए हैं, जिनमें नशामुक्त हिमाचल, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, समरसता, जल संरक्षण, साक्षरता अभियान, स्वच्छता और शून्य लागत प्राकृतिक कृषि व गौपालन शामिल है।

इसे भी पढ़ें :

विश्व पर्यावरण दिवस : बदलता जलवायु, गर्माती धरती और पिघलते ग्लेशियर

आचार्य देवव्रत ने कहा, "प्रदेश सरकार के सहयोग से राज्य में शून्य लागत प्राकृतिक कृषि को व्यापक तौर पर बढ़ावा दिया जा रहा है। हमारी कोशिश रहेगी कि वर्ष 2022 तक राज्य को प्राकृतिक कृषि राज्य घोषित करने के प्रयास किए जाएंगे।" उन्होंने भारतीय नस्ल की गाय के पालन से प्राकृतिक कृषि करने का आग्रह किया तथा कहा कि एक देशी गाय से 30 एकड़ भूमि पर कृषि की जा सकती है। उन्होंने प्राकृतिक कृषि से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी दी।

राज्यपाल ने इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानी परिवार के सदस्यों को सम्मानित किया, जिनमें वैद्य सूरत सिंह की पत्नी सुनैहरो देवी भी शामिल थीं। पझौता स्वतंत्रता सेनानी समाज कल्याण समिति के अध्यक्ष जयप्रकाश चौहान ने राज्यपाल का स्वागत किया तथा पझौता आंदोलन से संबंधित विभिन्न घटनाओं, स्वतंत्रता सेनानियों तथा अन्य शहीदों को याद किया और संक्षिप्त में इतिहास की जानकारी दी।

उन्होंने इस पझौता क्षेत्र में स्वतंत्रता सेनानियों की याद में स्मारक विकसित करने के लिए राज्यपाल से आग्रह किया।