उत्तरकाशी : उत्तराखंड की पहली विधानसभा सीट पुरोला भले ही विकास की दृष्टि से पिछड़ी हो, लेकिन मतदान में यह हमेशा अव्वल रही है। 2007 से अब तक के विधानसभा चुनाव इसकी बानगी हैं। इस मर्तबा करीब पांच फीसद कम मतदान होने के बावजूद उत्तरकाशी जिले में पुरोला सीट पर सर्वाधिक 72.55 फीसद मतदान के साथ प्रदेश में पहले पायदान पर रही।

उत्तरकाशी जिले में विधानसभा की पुरोला सीट अपने पिछड़ेपन के कारण भी सुर्खियों में रहती है। बावजूद इसके, यहां के लोगों की लोकतंत्र में अगाध आस्था है। हर मर्तबा यहां होने वाला बंपर मतदान इसे साबित भी करता है।

संबंधित खबरें :

उत्तराखंड चुनाव में राजनीतिक उथल-पुथल संभव : बाबा रामदेव

बहुमत के साथ सरकार बनाने का दावा, यूकेडी के प्रति नरम रुख

उत्तराखंड में मतदान ने पकड़ा जोर, हरिद्वार में सबसे तेज वोटिंग

15 साल पूर्व वर्ष 2002 के पहले विधानसभा चुनाव में पुरोला और यमुनोत्री सीटों पर मत प्रतिशत करीब-करीब बराबर रहा था। लेकिन, वर्ष 2007 से मतदान में पुरोला सिरमौर बना हुआ है।इस बार मतदान कुछ कम जरूर हुआ, बावजूद इसके पुरोला अव्वल रहा।

उत्तरकाशी की पुरोला सीट कुल 67496 मतदाताओं के साथ राज्य की सबसे छोटी सीट है। वहीं प्रदेश की सबसे बड़ी विधान सभी सीट देहरादून की धर्मपुर सीट है। इस पर पुरोला से करीब तीन गुना यानी 1,84,569 मतदाता हैं।