हैदराबाद : बगैर प्रवेश परीक्षा के मेडिकल पीजी सीट दिलवाने के नाम पर देशभर में करोड़ों रुपये के घोटाले को अंजाम देने वाले संतोष रॉय के कारनामे धीरे-धीरे सामने आने लगे हैं। संतोष के साथ एक अन्य आरोपी मनोज को सिटी साइबर क्राइम पुलिस शुक्रवार से हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

लंदन में एमबीबीएस की पढ़ाई करने का प्रचार करते हुए दिल्ली में अपना एक अस्पताल तक स्थापित करने वाले इस नकली डाक्टर के कुछ मौकों पर सीबीआई अधिकारी का अवतार लेने की खबर सामने आई है। संतोष सीबीआई और ईडी मामलों का सामना कर रही देशभर की बड़ी हस्तियों, उद्योगपतियों व व्यापारियों का विवरण जुटाकर उन्हें फोन करता था और खुद को सीबीआई अधिकारी बताकर उनसे परिचय बढ़ाया करता था।

इसे भी पढ़ें :

SI की प्रताड़ना से आहत दंपत्ति ने खाया जहर, अस्पताल में भर्ती

बाद में वह बड़ी हस्तियों के खिलाफ दर्ज मामलों में समझौता करने का हवाला देते हुए उनसे रुपये की डिमांड करता था। अगर कोई उसकी डिमांड नकार देते तो वह उन्हें गिरफ्तार करवाने और संपत्ति जब्त करवाने की धमकी देकर उनसे बड़ी राशि की मांग करता था। इसी तरह संतोष के कई लोगों से करोड़ों रुपये वसूले जाने की खबर है। साइबर क्राइम पुलिस द्वारा जुटाए गए सबूतों के मुताबिक संतोष की चंगुल में फंसे पीड़ितों में नगर के बशीरबाग क्षेत्र के एक बड़ा ज्वैलरी व्यापारी भी शामिल हैं। परंतु व्यापारी शिकायत करने से पीछे हटने की खबर है।

दूसरी तरफ, साइबर क्राइम पुलिस ने संतोष की गिरफ्तारी की खबर देश के सभी प्रमुख शहरों की पुलिस को दी है। अब विभिन्न क्षेत्रों में संतोष के खिलाफ दर्ज मामले और दर्ज नहीं होने वाली शिकायतें सामने आने लगी हैं।

संतोष के खिलाफ मुंबई, विशाखपट्टणम, गुजरात में मामले तथा बेंगलुरु में गैर जमानती वारंट, दिल्ली में मामला दर्ज नहीं होने वाली शिकायत होने की खबर मिली है। इससे साइबर क्राइम पुलिस की हिरासत ख्तम होने के बाद पीटी वारंट दाखिल कर विभिन्न मामलों में गिरफ्तार कर ले जाने की सूचना दी है।

इसे भी पढ़ें :

आंध्र प्रदेश में सड़क हादसा, एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत

मेडिकल पीजी सीट घोटाले में कुछ अन्य आरोपी शामिल हैं। इन आरोपियों की जानकारी के अलावा पीड़ितों से वसूले गए करोड़ों रुपये कहां गए, इसका पता लगाया जा रहा है। इस गैंग के अपराध और कितने हैं? आदि विवरण जुटाने में जुटी पुलिस को संतोष से सही सहयोग नहीं मिल रहा है। स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की दलील दे रहे संतोष सख्ती से पूछताछ करने पर आंखे चकराकर गिरने का नाटक करते हुए पुलिस के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा है।

हिरासत की अवधि बचे होने के मद्देनजर साइबर पुलिस ने गहन पूछताछ कर सच्चाई जानने का निर्णय लिया है। इस मामले की जांच कर रही पुलिस को इंटरनेट पर संतोष की एक फोटो मिली है, जिसमें संतोष एक पिस्तौल के साथ पोज दिया है। इससे पुलिस अब उस पिस्तौल के पीछे क्या कहानी छिपी है, इसकी भी छानबीन कर रही है। क्या वह असली पिस्तौल है, क्या लाइसेन्सी ?... आदि की जानकारी संतोष से उगलवाने का पुलिस ने निर्णय लिया है।

गैरतलब है कि बगैर प्रवेश परीक्षा के मेडिसिन पीजी सीट दिलवाने को लेकर बल्क एसएमएस भेजकर देशभर में धोखाधड़ी करने वाले गिरोह के मुख्य सूत्रधार संतोष कुमार रॉय को साइबर क्राइम पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार किया था।