हैदराबाद: दो वर्ष पूर्व हुए एमसेट प्रश्नपत्रिका लीकेज घोटाले की परत उजागर हो रही है। इस घोटाले से जुड़े नये तथ्य सामने आ रहे हैं। जहां एक ओर आरोपियों की सूची बढ़ती जा रही है, वहीं दूसरी ओर लीकेज प्रश्नपत्रिका का उपयोग करनेवाले छात्रों की संख्या बढ़ रही है। तेलुगु राज्यों में सनसनी फैलानेवाली घटना में कितनी राशि का घोटाला हुआ होगा, यह एक सवाल बना है। बताया जा रहा है कि इस घोटाले में लगभग 100 करोड़ रुपयों का अनुमान लगाया गया। अभी तक 70 करोड़ रूपयों से भी अधिक राशि बरामद की गई। घोटाले की राशि 100 करोड़ से भी अधिक होने का अंदेशा जताया जा रहा है।

एक छात्र के पास से लगभग 25 से 35 लाख रुपये लीकेज माफिया ने वसूल किए। कुछ अभिभावकों ने अपने बच्चों के हाथ तो कुछ कैंपस के छात्रों के साथ माफिया तक राशि पहुंचाई। बहरहाल, घोटाला उजागर होने से वसूले गई राशि सीआईडी बरामद कर रही है। शीघ्र यह राशि 100 करोड़ रुपये होगी, ऐसा अनुमान व्यक्त किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें:

तेलंगाना एमसेट मेडिकल पेपर लीक मामले के मुख्य सूत्रधार गिरफ्तार

बता दें कि घोटाले की जांच के दौरान वर्ष 2016 में पहले 60 और बाद में 250 तक छात्रों की संख्या बढ़ी। माफिया में शामिल आरोपियों की संख्या भी 100 तक बढ़ गई। सीआईडी ने अभी तक 90 आरोपियों को हिरासत में लिया और शेष 10 आरोपियों की तलाश जारी है। बताया जा रहा है कि शीघ्र ही शेष आरोपी गिरफ्त में होंगे।