खगड़िया : बिहार के खगड़िया जिले के परबत्ताथाना क्षेत्र के तेमथा गांव में रविवार की अहले सुबह एक प्रेमी ने प्रेमिका को हवस का शिकार बनाने के बाद आग के हवाले कर दिया। गंभीर हालत में उसे खगडिय़ा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन पुलिस को बयान देने के बाद वह मौत की नींद सो गई। मौत से पूर्व युवती द्वारा दिये गये बयान के आधार पर पुलिस प्राथमिकी दर्ज कर आरोपी प्रेमी की तलाश में जुट गई है।

परबत्ता क्षेत्र की एक युवती का भवानी शंकर से प्रेम प्रसंग चल रहा था। युवती प्रेमी भवानी शंकर पर शादी के लिए लगातार दबाव बना रही थी। शनिवार की देर शाम प्रेमी ने युवती को फोन कर अपने घर बुलाया। घर पहुंचने पर प्रेमी ने उसके साथ दुष्कर्म किया।

इसे भी पढ़ें..

स्वामी की करतूत जानकर दंग रह जाएंगे आप, मां करवा रही थी 8 साल से बेटी का रेप

फोन से फ्लैट में बुलाते थे लड़कियां और फिर करते थे.... !

दुष्कर्म के बाद युवक ने अपनी मां को जगाकर युवती के जबरन घर पर आने की बात कही। इसके बाद युवती को वापस घर भेज दिया गया। रविवार की सुबह भवानी शंकर अपनी प्रेमिका के घर पर पहुंचा। उस समय घर पर युवती के सिवाय कोई नहीं था। मौका मिलते ही भवानी शंकर ने युवती को शौचालय में बंद कर दिया और करोसिन डालकर देह में आग लगा दी।

हालांकि प्रेमी सहित उसके तमाम परिजन घर छोड़कर फरार हो गए हैं।

पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। इससे पूर्व महिला थानाध्यक्ष किरण कुमारी, चित्रगुप्त नगर थानाध्यक्ष अभिषेक कुमार ने अस्पताल में झुलसी युवती का बयान दर्ज किया। पुलिस को दिए बयान में युवती ने प्रेमी पर दुष्कर्म करने व आग लगाकर मारने की बात कही।

एसपी मीनू कुमारी, सदर एसडीपीओ रामानंद सागर भी सदर अस्पताल पहुंचकर परिजनों से घटना की जानकारी ली। एसपी मीनू कुमारी ने बताया कि एसडीपीओ को घटनास्थल पर भेजा गया है। वहां एफएसएल टीम भी पहुंचकर मामले की जांच करेगी। पुलिस आरोपी युवक की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

युवती द्वारा पुलिस को दिए गए बयान के अनुसार शनिवार को प्रेमी ने शादी का झांसा देकर उसे सार्टिफिकेट के साथ अपने घर बुलाया और जबरन हवस का शिकार बना लिया। युवती द्वारा जब विरोध किया गया तो प्रेमी की मां के साथ-साथ अन्य परिजनों ने भी युवती के ही सिर पर सारा दोष मढ़ दिया और उसे घर भगा दिया। उसी दिन प्रेमी भवानी शंकर प्रेमिका के घर पहुंचा और चेतावनी दी कि मामला अगर पुलिस तक पहुंचा तो पूरे परिवार को इसका अंजाम भुगतना होगा।