नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल मैच बस शुरू ही होने वाला है। भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया है। अब इस वक्त सारे फैंस अपनी अपनी टीम के लिए दुआ कर रहे हैं। पाकिस्तानी कप्तान सरफराज अहमद के सगे मामा महबूब हसन पाकिस्तान के लिए नहीं बल्कि इंडिया के दुआएं कर रहे है। सुनकर आप भी दंग रह गये।

सरफराज भारत के लिए इसलिए दुआएं मांग रहे हैं क्योंकि वो खुद भारतीय हैं। महबूब हसन उत्तर प्रदेश के शहर इटावा के ही रहने वाले हैं और क्रिकेट के बड़े दीवाने भी हैं। महबूब हसन की बहन शकीला बानो की शादी कराची के शकीन अहमद से हुई थीं, इसलिए सरफराज भी वहीं जन्मे हैं।

भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमें आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में रविवार को आमने-सामने हैं और भारत ने चास जीतकर पाकिस्तान को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया है।समाचार लिखे जाने तक पाकिस्तान ने 9 ओवर में 40 रन बना लिये थे. इस दौरान फकर को एक जीवनदान भी मिला था, जब बुमराह की गेंद पर फखर ने महेन्द्र सिंह धोनी को कैच थमा बैठा, लेकिन अंपायर ने इसे नो बाल करार दिया। यह दूसरा मौका है, जब दोनों टीमें किसी आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में एक दूसरे के सामने हैं।

इससे पहले यह दोनों पड़ोसी मुल्क टी-20 विश्व कप के पहले सीजन में 2007 में फाइनल में भिड़े थे, जिसे महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी में भारत ने जीता था। यह पहला मौका था जब भारत-पाकिस्तान के बीच आईसीसी टूर्नामेंट का फाइनल खेला गया था।

यह पहला मौका है जब पाकिस्तान चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल्स तक पहुंची है। आईसीसी टूर्नामेंट्स में भारत पाकिस्तान पर हमेशा से हावी रहा है लेकिन इस बार पाकिस्तान भी अपने फॉर्म में नजर आ रही है। भारत-पाकिस्तान के बीच अब तक आईसीसी आयोजनों में कुल 15 मैच खेले गए हैं, जिनमें से 12 मैच भारत ने जीते हैं और दो सिर्फ पाकिस्तान ने। एक मैच परिणाम विहीन रहा है। अब देखना ये है कि आखिर चैंपियंस ट्रॉफी का ख़िताब भारतीय टीम बचाने में कामयाब रहती है या पाकिस्तानी टीम कोई नया इतिहास रचती है।